बच्चे के ज़िद और नख़रे को बाय बाय

किताब का नाम : टक-अ -टक ड्रैगन

लेखक का नाम : जे एल मॉरिन 

इलस्ट्रेशन – स्टीफेन थियो और निकोल थियो   

प्रकाशक – हार्वर्ड स्क्वायर एडिशन 

प्रकाशन वर्ष : 2021

कीमत : भारत में किंडल एडिशन 222/- और हार्डकवर 2114/-

बच्चों के डर पर काबू पाने वाली विविधताओं से भरपूर इस पुस्तक का नाम है – टक-अ -टक ड्रैगन। किस तरह से एक “उबाऊ टैन ड्रैगन” अपने साथियों का दुलार पाता है और किस खूबी से अपने डर का सामना करते हुए सम्मानित और पुरस्कृत किया जाता है। 

जब बच्चा एक ऐसी उम्र से गुज़र रहा हो जहां उसमें नखरा करने की आदत से लेकर और भी व्यहार से जुड़ी शिकायतें आम बात होती हैं। ऐसे में बड़े ही नाटकीय ढंग से एक ड्रैगन कुछ संदेश बच्चो तक पहुंचाने की कोशिश करता है। 

क्या ड्रेगन आपके बच्चे को सबसे ज्यादा डराता है? टक-अ -टक ड्रैगन में कहानी ड्रेगन के नाटक के माध्यम से आगे की यात्रा करती है। बच्चा कहानी के ज़रिये एक ऐसे संसार में पहुंचता है जहां मौज मस्ती भरा कहानियों का रंगीन संसार है। 60 पेग की इस किताब की एक और खूबी स्टीफ़न थियो और निकोल थियो की पेंटिंग हैं। कहानियों का ये सफर जब आगे बढ़ता है तो खुद बखुद नखरे और दूसरी तंग करने वाली आदतें पीछे छूटती जाती हैं और शुरुआत होती है किताबों से लगाव की जो आगे की यात्रा कराने में मददगार होती है।

Read Previous

कोविड के साये में भारतीय अर्थव्यस्था का हाल

Read Next

मैं हारी नहीं, हराई गई हूं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *